व्यक्तित्व का विकास और संघर्ष सम्बंधी लेख

व्यक्तित्व का विकास कैसे होगा? अपने व्यक्तित्व को कैसे सुधारें? व्यक्तित्व का विकास, जीवन में अनुशासित आकर्षक व्यक्तित्व, आध्यात्मिक व्यक्तित्व विकास के टिप्स हिन्दी में, गतिविधियों से स्वयं को अपडेट करे। व्यक्तित्व विकास में भाषा की भूमिका, परिवर्तन जीवन की वास्तविकता है।

व्यक्तित्व का विकास और संघर्ष (Personality development and conflict)

यह जीवन परिवर्तनशील (Life changing) है, इस सच को आप अगर जितनी जल्दी स्वीकार कर ले उतना ही बेहतर है। जीवन में कुछ भी ऐसा नहीं होता जो परिवर्तन न हो। हर चीज बदल जाती है। इसलिए भूतकाल (past tense) के ख्यालो में न खोये रहे, अपने वर्तमान जीवन को जीये और हर पल को बेहतर करते जाए.

इस समय पृथ्वी पर, कई आत्माएँ अब जीवन के एक नए चरण में प्रवेश कर रही हैं। जो अधिक से अधिक आध्यात्मिक विस्तार (Spiritual expansion) का अवसर प्रदान कर रही हैं। कुछ के लिए यह स्पष्ट मौका से होता है, दूसरों के लिए पसंद के माध्यम से।

व्यक्तित्व का विकास और संघर्ष
व्यक्तित्व का विकास और संघर्ष

कुछ आत्माएँ लंबे समय तक चलने के बाद आध्यात्मिक विस्तार (Spiritual expansion) के समय में प्रवेश करती हैं, जहाँ बहुत कम प्रकाश को देखा जा सकता है या बहुत लंबे समय तक महसूस किया जा सकता है। व्यक्तित्व केवल सलीके से पहने परिधानो व आकर्षक चेहरे से नहीं बनता, बल्कि व्यक्तित्व के कई माप दंड होते हैं।

मनोवैज्ञानिको के अनुसार (According to psychologists)

व्यक्ति के नैसर्गिक, मनोवैज्ञानिक एवं व्यवहार (Psychology and Behavior) परक तत्वों का सामुहिक समन्वय व संयोजन संपूर्ण व्यक्तित्व (Combination whole personality) की पहचान है”। संपूर्ण व्यक्तित्व बनता है विचार, आचार, विचारो की समझ, दूरदर्शिता, सुसंस्कृत आचरण, व्यवहारिक सोच, कार्य करने के तरीके और जीवन के प्रति अपने दृष्टिकोण।

जब कोई आत्मा आध्यात्मिक मार्ग (Spiritual path) पर अधिक महत्त्वपूर्ण तरीके से आगे बढ़ने के लिए तैयार होती है, तो प्रकाश के लिए और भगवान के प्रेम के लिए अधिक लालसा पैदा होती है। हम आंतरिक मार्गदर्शन और अंतर्ज्ञान (Inner guidance and intuition) को अधिक ध्यान से सुनना शुरू करते हैं, अपने सपनों पर और भौतिक से परे वास्तविकता के अन्य स्तरों पर ध्यान देते हैं।

Read:- The most effective method to Change Human Nature

इस समय हमारे जीवन के सभी हिस्सों को प्रकाश और प्रेम के दिव्य स्रोत के साथ अधिक से अधिक संरेखण में लाना एक प्राथमिकता बन जाता है। स्वभाव में परिवर्तन (Change in nature) के बजाय व्यवहार में परिवर्तन लाए हमारा स्वभाव हमारी पहचान होती है, लेकिन इसे बदलना काफ़ी मुश्किल होता है।

नकारात्मक की जगह सकारात्मक (Positive instead of negative)

हम अगर चाहे तो अपने व्यवहार में ज़रूर परिवर्तन ला सकते है। व्यवहार में परिवर्तन करके हम अपना व्यक्तित्व बेहतर बना सकते है। इसलिए आपका स्वभाव चाहे कैसा भी हो, अपने व्यवहार को हमेशा सही रखे। व्यवहारिक बने (Be practical) ।

नकारात्मक की जगह सकारात्मक सोच (Positive thinking) को नकारात्मक सोच जहाँ व्यक्ति को अंदर ही अंदर घोट देती है वही सकारात्मक सोच व्यक्ति को ऊर्जा प्रदान करती है। सकारात्मक सोचना हमें हमेशा सही परिणाम देता है। नकारात्मक सोच हमें तनाव की ओर ले जाती है। हर स्थिति में सकारात्मक सोच रखने की कोशिश करे।

इस समय पृथ्वी पर, आध्यात्मिक विस्तार और विकास के कई नए अवसर हैं जो 20 साल पहले भी उपलब्ध नहीं थे। मानवता में आध्यात्मिक चेतना (Spiritual consciousness) के तीव्र त्वरण ने व्यक्तियों, जोड़ों, परिवारों, समूहों और यहाँ तक ​​कि राष्ट्रों के लिए आध्यात्मिक परिवर्तन (Spiritual change) के एक नए स्तर को संभव बनाया है।

Read:- self-assessment examples

Read:- Self-empowerment self-growth quotes

आध्यात्मिक प्रकाश (Spiritual light)

पृथ्वी पर अधिक से अधिक आध्यात्मिक प्रकाश की बढ़ती उपस्थिति ने एक नया वातावरण बनाया है। जो आध्यात्मिक स्थानों के लिए तेजी से पार करने योग्य है, सभी आत्माओं के लिए उच्चतर आयामों तक पहुँच बनाना संभव है, यहाँ तक ​​कि आध्यात्मिक जागृति प्रक्रिया (Spiritual awakening process) के साथ कोई पिछला अनुभव नहीं है।

अनुशासन का जीवन में होना बहुत महत्त्वपूर्ण है। अनुशासित जीवन जीना हमें जिम्मेदारियाँ निभाने (Carry the responsibility) व हर कार्य को आसानी से करने में मदद करता है। अनुशासन हीनता हमें दूसरों से बहुत पीछे कर देती है, अतः जीवन में अनुशासित व्यवहार (Disciplined behavior) करें।

अनावश्यक क्रियाकलापो, आदतों व दिनचर्या पर नियत्रण (Routine control) रखे हमारे दिनभर में कई ऐसे कार्य होते है जो हमारे समय को फ़ालतू में बर्बाद कर देते है। अपनी दिनचर्या को व्यवस्थित कीजिये (Set the routine) और जो भी काम आपके समय को बर्बाद करता है उसे करना छोड़ दीजिये। ऐसा करने से आपका समय तो बचेगा ही साथ में आप अधिक प्रोडक्टिव भी हो जाओगे।

प्रकाश को आमंत्रित कर सकते (Can invite light)

प्रियजन, ऐसे कई तरीके हैं जिनसे आप अपने दैनिक जीवन में अधिक से अधिक प्रकाश को आमंत्रित कर सकते हैं, सचेत रूप से अपने घर में पवित्र वातावरण बनाकर, वस्तुओं, ऊर्जाओं और भावनाओं से ख़ुद को मुक्त करके, जो अब आपकी सेवा नहीं करते हैं।

खुद को संरेखित करने का चयन करके. परमात्मा के साथ और अपने ही परमात्मा के साथ एक दैनिक आधार। के एक नए चरण में प्रवेश करने के साथ ही अपने कंपन को सचेत रूप से बढ़ाने के लिए शुरुआत में तीन व्यावहारिक सुझाव दिए गए हैं।

स्वभाव में संजीदगी लाएँ (Bring nature into nature) व मिलनसार बने अपने व्यवहार को मिलनसार रखिये, कटु व्यवहार व ख़ुद में खोये रहने वाले लोगों को कोई भी पसंद नहीं करेगा। जो व्यक्ति लोगों से मेलजोल रखता हो व लोगों से दोस्तों वाला व्यवहार रखता है उसी को लोग पसंद करते है।

इसलिए स्वभाव में संजीदगी लाएँ (Bring nature into nature) व मिलनसार बने। हमारा आलस्य हमारे दुश्मन की तरह होता है जो हमें आगे बढ़ने से रोक देता है। जब भी हम आलस्य करके किसी काम को करने से कतराते है तो उसका नुक़सान हमें भुगतना पड़ता है। आलसी जीवन जीना किसी को भी शोभा नहीं देता। अपनी इस आदत को बदलिए।

अपने रहने की जगह को शुद्ध करें (Cleanse your living space)

हमारा दृष्टिकोण हमारे जीवन की दिशा और दशा तय करता है, कभी भी संकीर्ण मानसिकता (Narrow mindset) या नज़रिया न रखे। आपका जितना छोटा नज़रिया होगा आप उतना ही सोच सकते हो। इसलिए अपने नजरिये को बड़ा कीजिये। अपने घर में ताज़ी आँखों के साथ जाएँ।

हर चीज़ को नए सिरे से देखें और वस्तुओं, कपड़ों, अव्यवस्था और अन्य वस्तुओं को जाने देने के लिए एक सचेत निर्णय लें जो प्रकाश के नए कंपन को प्रतिबिंबित (Reflect vibration) नहीं करते हैं जिसे आप अपने जीवन में आमंत्रित करना चाहते हैं। सब कुछ अच्छी तरह से साफ़ करें, खिड़कियाँ खोलें और ताजी हवा में रहने दें।

ध्यान दें कि चीजें कैसे महसूस होती हैं और उन वस्तुओं को जाने दें जो आपको अच्छा नहीं लगता। जैसा कि आप ऐसा करते हैं, यह एक पवित्र क्रिया के रूप में पुष्टि करता है जो आपके आंतरिक विकल्पों को भी दर्शाता है। पुरानी भावनाओं (Old feelings) , ऊर्जाओं और दर्द को देखें और महसूस करें जिन्हें आपने एक नए दिन की ताज़ा हवा में जारी किया है।

अपने घर में एक पवित्र स्थान बनाएँ (Create a holy place in your home)

अपने घर में एक ऐसी जगह बनाएँ जो एक वेदी और प्रकाश का अभयारण्य बन जाए. अपने घर में एक ऐसी जगह चुनें जिसका इस्तेमाल किसी और चीज के लिए नहीं किया जाएगा। एक छोटी-सी मेज, एक मोमबत्ती और कुछ सावधानी से चुनी हुई पवित्र वस्तुओं के साथ, फूलों या अन्य पवित्र वस्तुओं (Sacred objects) के साथ शुरू करें।

Read:- जीवन में आजीविका को अनुकूल कैसे बनाये

एक बार जब आप इसे इस तरह से व्यवस्थित करते हैं जो आपको अच्छा लगता है, तो प्रार्थना करें और नियमित रूप से यहाँ ध्यान करें। आपकी वेदी प्रकाश (Altar light) का एक कंपन लेगी जो आपको आध्यात्मिक सहायता (Spiritual aid) , प्रकाश और शांति प्रदान करेगी। आप कठिनाई के समय अपनी वेदी पर जा सकेंगे और वहाँ की रोशनी आराम और शांति प्रदान करेगी। आप अगले क़दम पर आगे बढ़ने के लिए तैयार और मज़बूत महसूस करेंगे।

अपने अन्दर लचीलापन रखे (Be flexible)

हमारा जीवन कठोर नहीं होना चाहिए. कठोरता किसी को पसंद नहीं होती। हर कोई ऐसे लोगों से मिलना पसंद करता है जिसके व्यवहार में लचीलापन (Flexibility in behavior) हो। उस पेड़ की तरह मत बनिए जो सीधा खड़ा रहता है बल्कि उस पेड़ की तरह बनिए जो लचीला होकर झुका रहता है।

Read:- स्वामी विवेकानंद ने सफलता पर हिंदी में उद्धरण दिया

अगर जीवन को एक खेल समझा जाए तो यह ज़िन्दगी हमें हमेशा खेलने के लिए अवसर प्रदान करती रहती है, परन्तु हम सब अपने जीवन में इतने उलझे हुए है हम इन अवसरों को देख ही नहीं पाते। जो व्यक्ति सीखना चाहता है आगे बढ़ना चाहता है उस इंसान के लिए संसार में अवसरों की कमी नहीं है।

वह हर अवसर को अपने पक्ष में करके जीवन की ऊंचाईयाँ हासिल कर सकता है। हम सब इंसान है और हर इंसान में कमियाँ होना आम बात है। इस संसार में कोई भी इंसान परफेक्ट (Human perfect) नहीं है। हर किसी में कूछ खूबियाँ है तो कुछ कमियाँ भी है। इसलिए अपनी खूबियों को बढ़ावा दे, वही अपनी कमजोरियों को पहचान कर उन्हें दूर करे।

गतिविधियों से स्वयं को अपडेट करे (Update yourself with activities)

आज दुनिया तेजी से बदल रही है, हमारी भाषा और शब्दकोश हमारे अभिव्यक्ति करने का एक मज़बूत स्तम्भ (Strong column) होती है। नए शब्द सीखिए अपनी भाषा को बेहतर करते जाए. कोई नयी भाषा अगर सीखने को मिलती है तो उसे सीख ले।

Read:- रीज़न फॉर यूनम्पलॉयमेंट इन इंडिया क्यों और कैसे है।

यह आपके जीवन में काम तो आएगी ही साथ में आपके व्यक्तित्व को आकर्षक भी बना देगी। यहाँ कुछ भी ऐसा नहीं है जो स्थिर हो। नयी तकनीके व जानकारी दिनों दिन अपडेट हो रही है। मोबाइल, कंप्यूटर, इन्टरनेट, ऑनलाइन पेमेंट (Mobile, computer, internet, online payment) तथा ऐसे ही अन्य नयी तकनीकी चीजो को समझना शुरू करे और अपने जीवन में उतार दे। तभी आप दूसरो के साथ चल पाओगे वरना लोगों से काफ़ी पीछे रह जाओगे।

Read:- लाइफ की योजनाएँ कैसे बनाये?

हमें सिर्फ़ ख़ुद पर ही ध्यान नहीं देना है बल्कि देश–दुनिया में क्या हो रहा। इस बात का पता होना भी ज़रूरी है। यह दुनिया हर पल बदल रही है इसलिए वैश्विक गतिविधियों (Global activities) से स्वयं को अपडेट करे।

अपने आप को दिव्य के साथ संरेखित करें (Align yourself with the divine)

अपने सन्निहित मानव आत्म और आपके दिव्य आध्यात्मिक (The spiritual) के बीच संचार को खोलने के लिए सबसे महत्त्वपूर्ण और सहायक प्रथाओं में से एक संरेखण के अभ्यास के माध्यम से है। प्रत्येक दिन, एक ही समय में अपनी वेदी के सामने कुछ मिनट बिताएँ।

यदि संभव हो तो, सांस लेना और अपने सभी हिस्सों को भगवान के दिव्य प्रकाश के साथ संरेखित करना। इस अभ्यास के निर्देश लाइट ओमेगा से पांच मिनट की ऑडियो रिकॉर्डिंग (Audio recording) के रूप में उपलब्ध हैं, जो एक निर्देशित ध्यान के साथ भी आता है। जितना अधिक आप यह करते हैं, ईश्वर के प्रकाश के साथ आपका सम्बंध उतना ही मज़बूत होता जाता है।

सामंजस्यता लाएँ (Bring harmony)

अपने जीवन में, अपने काम में, अपनी रिलेशनशिप (Relationship) में हमेशा तालमेल बनाये रखे। जीवन में अगर सामंजस्यता (Consistency) होगी तो आप अपने जीवन का भरपूर आनंद ले पाओगे। जीवन जीने में आनंद आना ही जीवन जीने का असली मकसद है। इसलिए जीवन जीने की कला को सीखिए।

अपने जीवन में सामंजस्यता (Consistency) लाये। ईश्वर की हर एक चीज खुबसुरत है, मनुष्य ईश्वर की एक महान कृति है, इसे औऱ भी खुबसूरत बनाए, निखारे और अपना आर्कषक व्यक्तित्व (Attractive personality) पाये। जब आपका व्यक्तित्व आकर्षित करने वाला होगा तो दुसरे लोग भी आपकी तरह ही बनना चाहेंगे और आपसे सीखेंगे।

प्रकाश के लिए मार्ग खोलना (Open the way to the light)

ये तीन सरल क़दम आपके जीवन में अधिक से अधिक प्रकाश के लिए मार्ग खोलना शुरू कर देंगे। जैसे ही आपके भीतर ईश्वर का प्रकाश (Light of god) बढ़ता है, नए विस्तर खुलेंगे और परिवर्तन और उपचार के लिए नई संभावनाएँ। जैसा कि भगवान का प्रकाश पृथ्वी पर विस्तार करना जारी रखता है, अधिक से अधिक आत्माएँ संभावनाओं (Souls possibilities) के अनंत दायरे में भगवान के पवित्र जीवन जीने के नए अवसरों की खोज करेंगी।

भगवान की ज्योति आपको आशीर्वाद (blessings) दे और सभी तरह से आपका मार्गदर्शन (Guidance) करे। वही व्यक्ति सफलता का स्वाद चखता है जो व्यक्ति हमेशा ख़ुद के प्रति ईमानदार होता है। अगर हम ख़ुद के प्रति ईमानदार नहीं है तो दूसरो के प्रति कभी भी नहीं हो सकते।

खुद की नजरो में महान बनिए. ख़ुद के साथ–साथ अपने परिवार व समाज के प्रति भी ईमानदार (honest) रहे। प्रत्येक मनुष्य अपने व्यक्तित्व को दूसरों के लिए प्रेरणा स्रोत (Inspiration) बना सकता है जी हाँ, यह बात बिलकुल सच है।

आप दिनभर जो भी करते है उसका आपके आसपास के लोगों पर बहुत असर होता है। अगर आप कुछ अच्छा करते है तो दुसरे लोग उससे सीखते है वही बुरा करने पर बुरा असर होता है। ख़ुद का व्यक्तित्व (the personality) इतना आकर्षक बना ले की व्यक्ति आपसे प्रेरणा ले और आपसे हर पल सीखे। जब आप समझते हैं कि आप क्या करते हैं, तो आप शायद ही कभी “अंधेरे में” समय बिताते हैं।

प्रकाश का रास्ता चाहिए (Need a way to light)

नकारात्मक से अभिभूत (Overwhelmed by the negative) हो सकते हैं। बुरी खबरों का लगातार बने रहना तनाव और भय दोनों पैदा कर सकता है। यदि आप पर्याप्त रूप से इस पर ध्यान केंद्रित करते हैं, तो अँधेरा हर जगह दिखाई दे सकता है और हमेशा अंदर बंद होने लगता है।

यह जितना गहरा होता है, उतना ही आसान होता है। जब आप देख नहीं सकते हैं, तो रहना आसान है और शिकायत करने के अलावा कुछ नहीं करना है। अंधेरे में, समस्याओं पर ध्यान केंद्रित करना आसान है और जब आप जीवन की महानता के चमकते हुए संकेतों की तलाश नहीं करते हैं,

Read:- आध्यात्मिक और रंग का त्यौहार होली का आनंद कैसे लें

तो अन्य लोगों की गलतियों को इंगित करना आसान होता है। अंधेरे अंततः सकारात्मक घटनाओं (Positive events) के लिए आसान बनाता है जो हर रोज़ किसी का ध्यान नहीं जाता है। दोस्तों आपने हमारा हिन्दी लेख “व्यक्तित्व का विकास (Personality development) और संघर्ष सम्बंधी लेख” को पड़ा आशा है आपको ज़रूर जानकारी मय लगा होगा। अपने दोस्तों के साथ साझा ज़रूर करे।

Spread the love

6 thoughts on “व्यक्तित्व का विकास और संघर्ष सम्बंधी लेख”

  1. very nice post 'so work'very good information frinds ,apki post bhahut achhi lagi thanku frind,Blogging से पैसे कमाए(How to make money from blogging)ब्लॉग क्या है, इंटरनेट से ऑनलाइन पैसा, ब्लॉग पर एक विषय बनाएं, ब्लॉग से पैसे कैसे प्राप्त करें, अपने ब्लॉग के लिए एक पोस्ट कैसे लिखें 'ब्लॉगिंग से पैसा कमाने का तरीका'

  2. Pingback: लाइफ की योजनाएँ कैसे बनाये? - Top Job Gyan

  3. Pingback: जीवन में प्रकाश विचार हिन्दी ज्ञान | Light ideas in life | आत्मा प्रकाश

  4. Pingback: विज्ञान रोचक तथ्य सामान्य ज्ञान हिन्दी, science interesting facts

  5. Pingback: डॉ बाबासाहेब आंबेडकर G K विचार। Dr. Ambedkar - Top Job Gyan

  6. Pingback: असंभव को संभव करने के लिए हमारे जीवन में क्या जरुरी? - Top Job Gyan

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top