berojgari kya hai-बेरोजगारी से कैसे निपटें?

berojgari kya hai-बेरोजगारी से कैसे निपटें?

berojgari kya hai-बेरोजगारी से कैसे निपटें?
berojgari kya hai

berojgari kya hai? बेरोजगारी से कैसे निपटें? क्या आप रोजगार की तलाश में है। यदि हम बेरोजगार हैं तो हम क्या करें? इस बेरोजगारी से कैसे निकले? कैसे हम पैसा कमा सकते हैं? हम कैसे एक अच्छे स्तर पर पहुँच सकते हैं। आदि बातों को हम इस पोस्ट में आपके साथ साझा करने वाले हैं। आप हमारे इस पोस्ट को पूरा पढ़ें, हो सकता है यह पोस्ट आपके जीवन में कुछ हासिल करने में मदद हो, चलिए शुरू करते हैं।


berojgari kya hai (बेरोजगारी क्या है) 


सबसे पहले बात करते हैं, berojgari क्या है? जैसे कि आप जानते हैं कि वर्तमान में आपने देखा होगा कि अभी कोरोना जैसी भयंकर बीमारियों से पूरा देश सामना कर रहे हैं। मार्च 2020 से वर्तमान अभी इस परिस्थिति से गुजर रहे हैं कि लोग घर बैठकर अपने घर की व्यवस्था और ख़र्चा कि पूर्ति करना आसान नहीं है। लोगों को बहुत दिक्कत महसूस होती है। लोगों ने अपने बने बनाए Rojgar को छोड़ने पर मजबूर हो गए.

क्योंकि जीवन है तो जहान है। यदि हम सुरक्षित रहना चाहते हैं तो, कुछ ऐसे हालात होते हैं कि हम ऐसी परिस्थितियों में हम एक बना हुआ rojgar छोड़ देते हैं और एक Berojgar बन जाते हैं। (berojgari kya hai) बेरोजगारी क्या है? जैसे कि आप जानते हैं कि Goverment बहुत कुछ गरीबों के साथ अच्छा करने के लिए कई Yojna चलाती हैं। लेकिन फिर भी बेरोजगारी का अंत नहीं होता है।

berojgari दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। लोगों को rojgar पाने के लिए बहुत लाइन लगानी पड़ती है। दिन प्रतिदिन लोग बेरोजगारी से जूझ रहे हैं। berojgari एक ऐसी व्यवस्था है कि जिसके माध्यम से हम एक पैसा कमाने के लिए मजबूर होते हैं। लोग दैनिक व्यवस्थाओं की पूर्ति करने के लिए किसी ना किसी काम को करते हैं। ताकि वह अपने परिवार का और स्वयं का ख़र्चा पूर्ति कर सके जिसे हम रोजगार कहते हैं।


 बेरोजगारी का अर्थ (Berojgari ka airth)


Rojgar हर जगह सीमित हो गया है। berojgari लोगों को अस्तित्व श्रम की मांग और उसकी पूर्ति के बीच स्तर अनुपात पर निर्भर करता है। बेरोजगारी श्रम की मांग की पूर्ति के बीच असंतुलित स्थिति का प्रतिफल, बेरोजगारी एक ऐसी व्यवस्था कह सकते हैं कि जिसकी दिन प्रतिदिन मांग बढ़ती जा रही है। बेरोजगारी से पढ़े लिखे शिक्षित और कामकाज वाले इंसान दिन प्रतिदिन परेशान नज़र आते हैं।

ऐसी परिस्थिति होती है कि हम एक काम करने में नाकाम रहते हैं। एक Rojgar पाने में असमर्थ होते हैं और जीवन में एक berojgari का सामना करना पड़ता है। क्योंकि बेरोजगारी का अर्थ (Berojgari ka airth) ही ऐसा है। बेरोजगार जिसका कहने का मतलब दूर का रोजगार दूर नज़र आता है। लेकिन हम उस मंज़िल तक नहीं पहुँचते हैं। जिसको हम Berojgari कह सकते हैं।

ज्यादा मात्रा में रोजगार पाने में असमर्थ, ज़्यादा मात्रा में पैसा बजट की कमी, काम की मात्रा का विकास कम होना, विकास दर विकास गति को रोकना। एक बढ़ती हुई रफ़्तार को बढ़ने में रूकावट आना जैसी बातें Berojgari में देखने को मिलती हैं। हम अपनी आम भाषा में यह कह सकते हैं कि बेरोजगारी एक पैसा कमाने में लोगों को दिक्कत महसूस करने के बराबर हैं।


Berojgari se kaise nikle (बेरोजगारी से कैसे निकले) 


आप बेरोजगारी का अर्थ भली-भांति जान गए होंगे, Berojgari हम पढ़े लिखे नौजवान जैसों के लिए एक पैसा कमाने के लिए एक साधन नहीं होना। जिसमें हम दिन प्रतिदिन तलाश करते हैं कि हम पैसा कैसे कमा, लेकिन पैसे कमाने के लिए (paisa kmamane ke liye) हम वंचित रह जाते हैं और कोई ख़ास rojgar उपलब्ध ना होने के कारण हम अपने खर्चो व्यवस्था बनाने में कामयाब नहीं हो पाते हैं।

ऐसी बातों को जिससे हम परेशान हो एक काम करने के लायक होने के बाद भी हम उस मंज़िल तक नहीं पहुँच पा रहे हो, ऐसी परिस्थिति में हम अपने आप को कहते हैं कि हम berojgar हैं। अब हम बात करते हैं कि हम इस (berojgari se kaise nikle) बेरोजगारी से कैसे निकले? जैसे कि यदि हम बेरोजगार हैं। वह परेशान हैं तो, सबसे पहले बात तो हम यही कहेंगे कि आप अपने आप को बिल्कुल ही बेरोजगार मत समझो।

क्योंकि सब कुछ मन से होता है। ताकत मन से बनती है। विचारों से बनती है। यदि हम अपने विचारों को नेगेटिव सोच के साथ डालेंगे तो, हमारा मन गिरेगा हमारे विचार गिरेंगे, जिससे हमारे जीवन में ग़रीबी और बेरोजगार (garibi or berojgari) आ जाएगी। लेकिन अपने आप को एक हौसला रखना है। ताकत रखना है कि हाँ हम बेरोजगार होने के बाद भी हम एक रोजगार (Rojgar) बनाने में कामयाब होंगे।


Berojgari nikalne ke liye (बेरोजगारी से निकालने के लिए) 


लोगों की ऐसी प्रवृत्ति होती है, इंसान हमेशा paisa kamana चाहता है। किसी अच्छे काम को सबसे पहले लोग पकड़ने की कोशिश करते हैं। जब हम एक अच्छे रोजगार और अच्छे Jobs में पाने में असमर्थ हो जाते हैं। तो कुछ लोग निराश हो जाते हैं लेकिन निराशा अंधेरे में धकेलता है। इसलिए हमेशा निराशा हाथ नहीं रहना चाहिए. क्योंकि हम अपने बलबूते पर निराशा को उत्साह में बदल सकते हैं।

अपने आप को एक berojgari से निकालने के लिए हमें किसी न किसी Rojgar की तलाश करना चाहिए. रोजगार तलाश कैसे करें? जैसे कि आप जानते हैं कि दिन-प्रतिदिन सरकार और कुछ सार्वजनिक कंपनियाँ, प्राइवेट कंपनियाँ, बहुत कुछ काम को खोलने जा रहे हैं। जिसमें लोगों के लिए कई रोजगार के सुनहरे अवसर मिलते हैं और पूरी कोशिश सरकार करती है कि बेरोजगारी को मिटाया जाए.

हमें कहीं भी, किसी भी जगह अपने rojgar की तलाश करनी चाहिए. चाहे आप ऑनलाइन करें या ऑफलाइन। आप किसी ऑफिस से कांटेक्ट करें या किसी कंपनी से, आप अपने लिए रोजगार आसानी से तलाश सकते हैं। बस हमारे आपके अंदर एक टैलेंट होना चाहिए. एक क्षमता होना चाहिए. एक पैसा कमाने (paisa kamane) की सोच होना चाहिए. हम किसी भी समय अपनी berojgari को एक rojgar में बदल सकते हैं।


बेरोजगारी दूर करने की सोच (berojgari dur karne ki soch) 


अब हम बात करते हैं जॉब के अलावा भी और क्या-क्या साधन हो सकते हैं। बेरोजगारी दूर करने के लिए. यदि हम बेरोजगारी को दूर करने की सोचते हैं, यदि हमें जॉब नहीं मिलता है। चाहे प्राइवेट हो या सरकारी हो, हम जॉब के भरोसे नहीं रहना चाहिए. हाँ jobs मिल जाएगा लेकिन उसके साथ हमें और भी पार्ट टाइम (PART TAIME) काम करने का मौका मिलता है। क्योंकि जो समय निकलता निकल जाता है उसको दोबारा वापस नहीं लाया जा सकता है।

यदि हम अपने जीवन में कुछ Part time काम करें। जिसके माध्यम से हमारे लिए एक काम करने का एक्सपीरियंस बनता है। जो हमारे Job pane में हमारे लिए बहुत मददगार होता है। यदि आप पढ़े लिखे हैं, अनपढ़ य बेरोजगार हैं तो कोई ना कोई पार्ट टाइम जॉब (Part taime jobs) हमें तलाश लेना चाहिए. चाहे उसमें पैसा भले ही कम मिलता। लेकिन समय का हमें सही सदुपयोग करना चाहिए. ताकि आने वाले समय में हम बेरोजगारी को हरा सके.


Nirash hone ki jarurat nahi hai (निराश होने की ज़रूरत नहीं है) 


अब हम बात करते हैं, पैसा कैसे कमाए? देखिए paisa kamane के बहुत सारे ज़रिया है। यदि आप बेरोजगार हैं तो आपको निराश होने की ज़रूरत नहीं है। आप कहीं भी किसी भी समय किसी से भी आप बात कर सकते हैं। दिल खोल कर बात कर सकते हैं। क्योंकि जो मजबूरी होती है वह लोगों के पास होती है। जिसके पास मजबूरी होती है वही समझता है।

अपनी मजबूरी को एक जॉब (Job) में बदलने के लिए, लोगों की मदद लेना चाहिए. जो लोग जॉब काम कर रहे हैं। उनसे संपर्क करना चाहिए, यदि आप berojgar हैं तो आपको निराश होने की ज़रूरत नहीं, आप एक सफल रोजगार और सफल जॉब पा सकते हैं।

पोस्ट निष्कर्ष

आशा है दोस्तों आपने हमारी यह पोस्ट berojgari kya hai? और इस बेरोजगारी से हम कैसे निपट सकते हैं। कैसे हम रोजगार पा सकते हैं, हम अपने आप के लिए कैसे स्ट्रांग और मज़बूत कर सकते हैं ताकि हम बेरोजगारी को हरा सके.

दोस्तों आपको हमारी यह पोस्ट काफ़ी मोटिवेशन करने वाली लगी होगी, इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ ज़्यादा से ज़्यादा सांझा करें। ताकि जीवन में किसी भी काम को करने के लिए हम पीछे नहीं रहे। आपकी कामयाबी ही हमारा लक्ष्य है।धन्यवाद

और पढ़े -


Share:

No comments:

Post a comment

आपके कमेन्ट की सराहना करते है

Follow by Email

Popular Posts